SHRI PUSHTIDHAM HAVELI

Vichar Manthan..!!

मोह् के रहते हुए प्रभु के चरणों में दॄढ़ अनुराग नहीं होता और बिना सत्संग के मोह नहीं मिटता । अतः मनुष्य के जीवन में सत्संग का सातत्य चाहिए ।

Categories: SHRI PUSHTIDHAM HAVELI | Leave a comment

श्रीराम जन्म की बधाई हो..॥

image

आदि राम तपोवनादि गमनं, हत्वा मृगं कांचनम्।
वैदीहीहरणं जटायुमरणं, सुग्रीवसंभाषणम्।।
बालीनिर्दलनं समुद्रतरणं, लंकापुरीदाहनम्।
पश्चाद् रावण कुम्भकर्ण हननम्, एतद्धि रामायणम्।।

मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीरामचन्द्रजी के जन्म की बधाई बधाई ।श्री राम के जीवन से सीख। रघुकुल रीत सदा चली आयी प्रान जाय पर बचन न जाये प्रातकाल उठीके रघुनाथा मात पिता गुरु नाव ही माथा॥ पुजनी यो का आदर,आज्ञा पालन, आदि..॥पुष्टिभक्ति के 4 कार्य कर बताये। 1अहल्या 2 सेतुबंध 3 शबरी 4 अवधपुरीजन को पुष्पक विमान मेँ साकेतधाम गमनादि । श्रीराम जय राम जय जय राम ।

Categories: SHRI PUSHTIDHAM HAVELI | Leave a comment

VM-हिन्दुत्व की परिभाषा {HINDUISM}

VM-हिन्दुत्व की परिभाषा {HINDUISM}
H-HONESTY-इमानदारी
I-INTEGRITY-सत्यनिष्ठा
N-NOBILITY-उदारता
D-DIVINITY-इर्शरत्व
U-UNIVERSALISM
विश्यबन्धुत्व
S-SERVICE-सेवा
M-MEDITATION-ध्यानयोग

Categories: SHRI PUSHTIDHAM HAVELI | Tags: | Leave a comment

“संकल्प और समर्पण”

संकल्प और समर्पण। अगर अर्थ की दृष्टि से देखा जाए, तो दोनों ही  हैं। या तो आप संकल्प कर सकते हैं, या फिर समर्पण। जैसे युद्ध में सामने वाले ने हथियार छोड दिए, तो समझो कि समर्पण हो गया। जब तक लड रहे थे, तो संकल्प से लड रहे थे। लेकिन जब संकल्प हारा, तो समर्पण किया। लेकिन अध्यात्म में संकल्प और समर्पण साथ-साथ चलते हैं। संकल्प करें और प्रभु के अनुग्रह से वह संकल्प पुरे होंगे, संकल्प की शक्ति का बीज सब में होता है, लेकिन अगर आप बीज को मिट्टी में न डालो, उसको खाद, पानी न दो, तो वह फूटेगा ही नहीं। बडे-बडे संकल्प मत करो, छोटे-छोटे संकल्प लो। जैसे एक प्रेमी और प्रेमिका एक बगीचे में बैठे थे। प्रेमिका ने प्रेमी से कहा तुम मेरे लिए क्या कर सकते हो? प्रेमी बोला, तुम्ही बताओ, चांद लाऊं, तारे लाऊं। तो प्रेमिका बोली, इतनी बडी बात मत करो, तुम इतना ही बोल दो कि गोभी का फूल लाऊंगा, तू रोटी पकाएगी, मैं खाऊंगा। व्यावहारिक बात करो।
छोटे-छोटे कदम उठाओ, तो हजारों मील की यात्रा पूरी हो जाती है। यह मत कहो कि हजारों मील चलना है, पर मुझ में शक्ति नहीं।  हजारों मील नहीं, तो एक कदम तो चल सकते हे। एक-एक कदम ही चलो। संकल्प की शक्ति का विकास करने के लिए छोटे-छोटे प्रयोग करें, जैसे हम अन्न (व्रत) नहीं खाएंगे। 24घंटे तो बहुत लंबा है, तुम छोटा समय लो। घडी देखो और संकल्प करो कि अगले आधे घंटे तक मैं मौन रहूंगा। अगर आधा घंटा तुम मौन रह गए, तो समझ लो कि उतनी शक्ति संकल्प की बढ गई। फिर इसी तरह धीरे-धीरे बढाते रहो। संकल्प की शक्ति को विकसित करने के लिए छोटे-छोटे उपाय करो। जैसे आप सुबह नहीं उठ पाते हैं, तब रात को सोने से पहले अलार्म भर दो, फिर संकल्प  करो की मुजे  सुबह पांच बजे उठना है। घडी अलार्म बजाना भूल सकती है, पर अपने अंदर का अलार्म ठीक समय पर बज जाएगा। हम संकल्प-शक्ति का उपयोग सही तरीके से कर नहीं रहे हैं। हम कहते हे कि सुबह उठूं और हमारा मन कहता है कि आज सो जाता हूं, कल उठ जाऊंगा। संकल्प में दृढता होनी चाहिए।
 
एक संत वाणी……….

Posted with WordPress for BlackBerry.

Categories: SHRI PUSHTIDHAM HAVELI | 4 Comments

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: