सूखस्य मूलं धर्म. …॥

image

मानव सुख की तलाश में इधर-उधर भटक रहा है, लेकिन वह अपने मन में झांक कर नहीं देखता। जबकि मनुष्य के मन में ही सुख का सागर होता है।भ्रमित मानव भौतिक सुख पाने के लिए सांसारिक वस्तुओं के पीछे तो अंधा होकर भाग रहा है और आध्यात्मिक सुख से विमुख होता जा रहा है जो कि उसके दुख का असल कारण है। संसार में जिस मानव के पास सभी सुख सुविधाएं है वह भी सुखी नहीं है। सुख केवल भगवान के शरणागत होने पर ही मिलता है। आत्मिक शांति सुविधाओं से नहीं बल्कि प्रभु चरणों में मन लगाने से मिलती है।
इसलिए श्री वल्लभ आज्ञा करते हैं !
॥॥॥कृष्ण एवं गतिर्मम:॥॥॥

Posted from WordPress for Android Mobile

Categories: My Posts | 10 Comments

Post navigation

10 thoughts on “सूखस्य मूलं धर्म. …॥

  1. mitul shah

    Dandwat prabhu…ATI sundar krupanath

    Like

  2. yoges arora

    bhaut sunder aagya kari aapshri ne..

    Like

  3. yoges arora

    dandawat pranam jai jai….

    Like

  4. kalpesh

    Dandwat jjshri

    Like

  5. Saurabh

    Khub sundar aagya kini aapshree ne Prabhu!!!
    Sashtaang Dandwat is Jeev ka!!!

    Like

  6. manoj k.

    Jai ho ati sundar.dandwat jj

    Like

  7. Divya Dhingra

    Dandvatt pranam jaijaiji…

    Like

  8. manish gajjar

    dandvat pranam jejeshri,

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: