विचार मंथन….!!

आओ आत्म दर्शन करे…!!

मनुष्य की प्रवृति दो प्रकार की होती है , एक दैवी और दूसरी आसुरी ! इन्हीको भगवत गीता में क्रमश: दैवी संपद और आसुरी संपद कहा गया है…..!!

* दैवी संपदवाले मनुष्य के लक्षण ये होते है, ध्यान से पढ़े…!!

अभय , चित्त की पवित्रता , ज्ञानयोग में तत्परता , सात्विक दान , इंद्रियों का संयम , निष्काम भावना से भगवदभक्ति , सत्संगी , कष्ट सहिष्णुता , शांत ,सरल स्वभाव , अहिंसा , सत्य , अक्रोध , सांसारिक वस्तु ओ में आसक्ति का ना होना , दुसरे की निंदा न करना , दया , विषयों के लिए लोलुप ना होना , मृदुभाव , बुरे काम करने में लज्जा , चंचलता का ना होंना , तेज , क्षमा , धैर्य , पवित्रता , अद्रोह और दूरभिमान से बचना…!!

आसुरी संपदवाले मनुष्य के लक्षण ये होते है…!!

पाखंड , धमंड , अति अभिमान , क्रोध , कठोरता और अज्ञान….!!

प्रिय वैष्णव जनों…!!

यह विचार मंथन हम सब के लिए आत्म चिंतन का विषय है….!!

हमारे पास कोनसी संपदा है ?
दैवी के आसुरी यह निर्णय हम खुद लेवे…!!

भौतिक संपदा के लिए तो संपूर्ण समाज चिंतित है , लेकिन इसके साथ साथ अध्यात्मिक एवं आधिदैविक संपदा के लिए सत्तत चिंतनशील रहेना हम ” पुष्टि जीवों ” का परम धर्म है…!!

© गो.हरिराय…!!
(कड़ी-अहमदाबाद- सूरत-मुंबई)

Advertisements
Categories: My Posts | Leave a comment

Post navigation

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: