विचार मंथन…!! रासलीला

रासलीला मनोभाव प्रकाश…!!

गोपी कृष्ण प्रेम की मूर्ति है..!!
हमारा ह्रदय वृंदावन है , आत्मा श्री कृष्ण है , अंत:करण की वृतिया ही गोपियाँ है , शांत शीतल पूर्ण प्रसन्न साधक का जो मन है वह पूर्णिमा का चंद्रमा है ( चंद्र मन के देव है ) भीतर से जो परम प्रेम की भक्ति की जो धारा बह रही है वही श्री यमुनाजी है , अंत: से उठता हुआ अनाहत नाद ही श्री कृष्ण की वेणु का स्वर है..!! 

और उस नाद को सुनकर के अंत:करण की वृति रूपी गोपियाँ अंतर मुख होकर के जो बहिर्मुख थी संसार में थी वृतिया वह अंतर मुख होकर के आत्मा रूपी श्री कृष्ण से रमण करने दोड़ती है , ह्रदय रूपी वृन्दावन में जाती है, रमण करती है  ” श्री कृष्ण मय ” हो जाती है..!! यानि वृतियों का विलय  हो जाता है आत्मा में उसी को योग में समाधि कहते है…!! वही ” रास ” है..!!

यह रास जीवात्मा और परमात्मा का मिलन है..!! 

अब विचार करे क्या हमारी  अंत:करण की वृतिया ” श्री कृष्णमय ” है…!! जो उत्तर हा है तो हमारा प्रभु के संग रास आज भी चल रहा है..!!

गो.हरिराय…!!
(कड़ी-अहमदाबाद-सूरत-मुंबई) 

Advertisements
Categories: My Posts | Leave a comment

Post navigation

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: